Connect with us

देश

गर्व के पलः भारतीय वायुसेना में पिता-पुत्री ने एक साथ उड़ाया लड़ाकू विमान, रचा इतिहास…

देशः कहते है अगर आपके पास जज्बा और हौसला है तो दुनिया आपके कदमों में है। मंजिल पाने की शर्त ही जज्बा है। इस बात को सिद्ध कर दिखाया है वायुसेना की पहली महिला फाइटर बनी अनन्या शर्मा ने। बचपन से उड़ान भरने का सपना देख रही बेटी ने वायुसेना में फाइटर बन अपने फाइटर पिता के साथ लड़ाकू विमान उड़ाया है। एयर कमोडोर संजय और उनकी बेटी फ्लाइंग ऑफिसर अनन्या के इस कारनामें की देश भर में प्रशंसा हो रही है। तो वहीं बेटी के फाइटर बन साथ में विमान उड़ाने से पिता का सीना गर्व से चौड़ा हो गया है।

वायु सेना की पहली महिला फाइटर पायलट

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार अनन्या बचपन से ही पिता की तरह आसमान में उड़ने का सपना देखती थी। वह अपने पिता संजय शर्मा की तरह भारतीय वायु सेना की लड़ाकू पायलट बनना चाहती थी। जैसे-जैसे वह बड़ी हुईं उन्होंने अपने सपने को साकार करने की दिशा में कदम बढ़ाया और फाइटर पायलट बन गईं। अनन्या शर्मा भारतीय वायु सेना की पहली महिला फाइटर पायलट हैं। 2016 में वह वायु सेना में शामिल हुईं थी। उन्होंने इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्यूनिकेशन में बीटेक किया है। वह दिसंबर 2021 में फाइटर पायलट बनीं थी।

यह भी पढ़ें 👉  Job Update: बैंक में नौकरी करने के इच्छुक युवाओं के लिए अच्छी खबर, पदों पर निकली भर्ती, जानें डिटेल्स...

पिता-पुत्री की जोड़ी का कारनामा

बताया जा रहा है कि अनन्या के पिता एयर कोमोडोर संजय शर्मा 1989 में वायु सेना के फाइटर पायलट बने थे। उन्हें लड़ाकू विमान उड़ाने का लंबा अनुभव है। उन्होंने मिग-21 के स्क्वाड्रन को कमांड भी किया है। वह फ्रंटलाइन फाइटर स्टेशन पर तैनात रहे हैं। पिता-पुत्री की जोड़ी ने एक साथ लड़ाकू विमान उड़ाकर इतिहास रचा। मिग-21 और राफेल जैसे तेज रफ्तार विमान उड़ाने से पहले फाइटर पायलट को Hawk-132 विमान उड़ाने की ट्रेनिंग दी जाती है। पिता-पुत्री के इस कारनामे को लेकर एयर फोर्स के कई पूर् सैनिकों ने उन्हें बधाई दी और कहा है कि यह भारत के लिए गौरव का क्षण है।

यह भी पढ़ें 👉  Job Update: बैंक में नौकरी करने के इच्छुक युवाओं के लिए अच्छी खबर, पदों पर निकली भर्ती, जानें डिटेल्स...

ऐसा पहले कभी नहीं हुआ

बताया जा रहा है कि दोनों ने कर्नाटक के बिंदर एयर फोर्स स्टेशन से Hawk-132 विमान के एक फॉर्मेशन में उड़ान भरी थी। यहां फ्लाइंग ऑफिसर अनन्या ट्रेनिंग कर रहीं थी। संजय शर्मा अनन्या के साथ ट्रेनर के रूप में उड़ान भर रहे थे। भारतीय वायु सेना में पहले कभी ऐसा नहीं हुआ था कि पिता और बेटी एक मिशन में एक साथ लड़ाकू विमान उड़ाए।

Latest News -
Continue Reading
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

More in देश

Advertisement

उत्तराखंड

उत्तराखंड
Advertisement

देश

देश

YouTube Channel Pahadi Khabarnama

Our YouTube Channel

ट्रेंडिंग खबरें

Recent Posts

To Top
1 Share
Share via
Copy link
Powered by Social Snap